नमस्कार आपका स्वागत है

नमस्कार  आपका स्वागत है
नमस्कार आपका स्वागत है

Monday, January 23, 2012

सहृदय स्वरोज सुर मंदिर पर ...

सहृदय स्वरोज  सुर मंदिर पर ...

ख़ामोशी की आवाज़....
अँधेरे में उठाते रोशन लफ्ज़ ...



24 comments:

  1. कल 24/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. बार-बार सुनने को मन करता है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार...ज़रूर सुनिए ...!!

      Delete
  3. अह्हा.... आनद आ गया आदरणीय अनुपमा जी...
    सादर आभार.

    ReplyDelete
  4. बहुत बेहतरीन और प्रशंसनीय.......
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर गायन ,..आपकी आवाज बहुत अच्छी लगी,..लेखन और गायन दोनों विधाओं में आप निपुण है,...बहुत२ बधाई शुभ कामनाए,....
    WELCOME TO NEW POST --26 जनवरी आया है....
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए.....

    ReplyDelete
  6. प्रशंसनीय.......

    ReplyDelete
  7. अनुपमा जी आपके गले की तारीफ़ किन शब्दों में करूँ? आप तो कोकल कंठी हैं...वाह...आनंद आ गया आपको सुन कर...किया है प्यार जिसे हमने ज़िन्दगी की तरह...जगजीत सिंह जी भी साथ साथ याद आ गए...बधाई बधाई बधाई..

    नीरज

    ReplyDelete
  8. BAS SUNTE JA RAHI HUN ... FAN LIST ME MERA NAAM DE DO

    ReplyDelete
  9. बहुत आभार. बहुत बहुत आभार.

    ReplyDelete
    Replies
    1. कितना मधुर गाती हैं आप ! वैसे भी यह मेरी बेहद पसंदीदा गज़ल है ! बार-बार सुन कर भी मन प्यासा ही रहा जाता है ! आपके नाम की तरह आपकी आवाज़ भी अनुपम है ! बेहद मीठी दिल को छूने वाली !

      Delete
    2. बहुत आभार.
      सच में इस ग़ज़ल में इतना दर्द है की गाकर भी एक अजीब सा एहसास होता है ...

      Delete
  10. कुछ अनुभूतियाँ इतनी गहन होती है कि उनके लिए शब्द कम ही होते हैं !
    बहुत बेहतरीन और प्रशंसनीय.......
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  11. अनुपमा जी आपके अनुपम गीत -माधुर्य ने अभिभूत कर दिया । मेरा शत-शत प्रणाम ! ईश्वर यह स्वर माधुर्य ताज़िन्दगी बनाए रखे !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुभाशीर्वाद के लिए ह्रदय से आभार ...

      Delete